एमवाय अस्पताल मैं एंडोस्कोपी पद्धति रीढ़ की हड्डी का ऑपरेशन प्रारंभ

 


इंदौर l एम. वाय. अस्पताल में एंडोस्कोपी पद्धति से रीढ़ की हड्डी के ऑपेरशन प्रारम्भ: प्रदेश के सबसे बड़े एम. वाय. अस्पताल के न्यूरोसर्जरी विभाग में दूरबीन पद्धत्ति से रीढ़ की हड्डियों के बीच होने वाली डिस्क प्रोलैप्स नामक बीमारी का इलाज़ प्रारम्भ हो गया है।  खरगोन के पास की 42 वर्षीय महिला  साइटिका नामक बीमारी से कई वर्षों से परेशान थी। पिछले दिनों उक्त महिला का L 4-5 की डिस्क प्रोलैप्स का  एम. वाय. अस्पताल के न्यूरोसर्जरी विभाग में दुरबीन पद्धति से आपरेशन किया गया।प्रोफेसर डॉ. राकेश गुप्ता एवम डॉ. ज़फर शेख की टीम द्वारा किये गए आपरेशन के अगले दिन ही मरीज़ को चलाना शुरू करवा दिया गया तथा तकलीफों में उल्लेखनीय  सुधार होने पर 48 घंटे बाद ही मरीज़ को छुट्टी दे दी गयी। आपरेशन में डॉ. परेश सोढिया, डॉ. मुकेश शर्मा,एवम निश्चेतना विशेषज्ञ डॉ. अरोरा,डॉ. पारुल जैन ,डॉ. दीपाली का भी सहयोग रहा। इस संबंध में और जानकारी देते हुए  डॉ. राकेश गुप्ता द्वारा बताया गया कि इस प्रकार के ऑपेरशन में बहुत छोटे चीरा लगा कर एंडोस्कोप की मदद से दबी हुई नस के ऊपर से दवाब हटाया जाता है।  प्राइवेट हॉस्पिटल्स में इस तरह के आपरेशन अत्यंत खर्चीले होते हैं , जबकि एम. वाय. अस्पताल में लगभग फ्री या नाममात्र के खर्च में यह आपरेशन हो जाएंगे। ज्यादा से ज्यादा मरीजों को इस सुविधा का लाभ मिल सके इस हेतु प्रत्येक शुक्रवार सुबह 11से दोपहर 1बजे तक  बाह्य रोग विभाग में स्पाइन क्लिनिक भी प्रारम्भ किया जा रहा है।


Popular posts
उद्घाटन हेतु केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जी को दिया गया निमंत्रण पत्र
Image
Taiwanese Headlightbrands gaining 70% market share in EU and US through smart transformation
Image
25 बार चिदम्बरम को जमानत देने वाले न्यायाधीश की भी जांच होनी चाहिये ये माजरा क्या है.? काँग्रेस द्वारा किया गया विश्व का सबसे बड़ा घोटाला खुलना अभी बाकी है......बहुत बड़े काँग्रेसी और ब्यूरोक्रैट्स पकड़े जायेंगे। इसलिये चिदम्बरम को बार -बार जमानत दी जा रही है।*
विजयादशमी पर होगा कलयुगी प्लास्टिकासुर रूपी रावण का दहन     राज्य मंत्री श्री कंप्यूटर बाबा लगाएंगे आग, कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे शहर कांग्रेस अध्यक्ष श्री प्रमोद टंडन
Image
*अतिरिक्त़ पुलिस महानिदेशक  श्री वरूण कपूर सायबर सुरक्षा में मानद उपाधि प्राप्त़ करने वाले एशिया के पहले पुलिस अधिकारी बने।*
Image